Pradushan Ki Samasya Essay In Hindi

भारत देश बहुत ही विशाल जनसंख्या वाला देश है| जनसंख्या की विशालता को देखते हुए, यदि एक अनुमान लगाया जाये, तो पता चलेगा कि यहा आज भी देश मे गरीबी, अनपढ़ता, भुखमरी फैली हुई है| जिसके चलते प्रदुषण की समस्या भी बढ़ रही है|  भारत मे बढ़ते प्रदुषण का एक बहुत बड़ा कारण अशिक्षित या अनपढ़ता है| जिसके चलते बीमारियाँ या ऐसे रोग फैले है जो की लाइलाज या मृत्यु का कारण तक बने है|

प्रदूषण की समस्या के कारण प्रकार समाधान पर निबंध कविता

pollution pradushan ki samasya prakar samadhan nibandh essay kavita in hindi

यह भारत की ऐसी बड़ी समस्या है, जिसका समय रहते निराकरण नही किया गया तो ,हर तरह से हमें हानी ही उठानी पड़ेगी| हम आगे इसे विस्तार से देखेंगे-

  • प्रदुषण क्या है?
  • प्रदुषण का इतिहास
  • प्रदुषण के प्रकार
  • भारत देश मे प्रदुषण की स्थति
  • प्रदुषण बचाव के सम्बन्ध में महत्वपूर्ण बिन्दु
  • प्रदुषण के सम्बन्ध मे समितियां और कानून

प्रदुषण क्या है? (What is Pollution / Pradushan Kya Hai)

वैसे तो हम बचपन से किताबो में पढ़ते और सुनते आ रहे है|

हमारे आस-पास के वातावरण को दूषित या खराब करना प्रदुषण है| प्रदुषण शब्द इतना प्रचलित शब्द हो चूका है, जिसे हर दिन मे, हर एक व्यक्ति जाने-अनजाने में एक न एक बार जरुर करता है| दैनिक कार्यो से लेकर तो बड़े से बड़े कार्यो मे तक हमने अपने वातावरण को बहुत दूषित कर लिया है| जिस पर ध्यान देना बहुत ही आवश्यक हो चूका है | बढ़ते प्रदुषण को अगर नही रोका गया तो हम अपने वर्तमान के साथ भविष्य को भी अंधकार में डूबो रहे है|

प्रदुषण का इतिहास (Pradushan ka itihass)

प्रदुषण शब्द आज से नही, प्राचीन समय से चला आ रहा है|

जब व्यक्ति खानाबदोश हुआ करता था, अपने खाने की खोज में जगह-जगह भटकता था| फिर धीरे से उसने अग्नि का अविष्कार कर खाना बनाना प्रारंभ किया| जिसके साथ ही उसने वातावरण को दूषित करना आरम्भ कर दिया| शुरू में मनुष्य का दिमाग इतना विकसित नही हुआ करता था| जिसके बावजूद भी उसने अनजाने में ऐसे कार्य किये जिसे प्रदुषण आरम्भ हुआ, जैसे-

  • जंगलों की लकड़ी काटना
  • अग्नि का उपयोग
  • पशुओ को मार कर खाना
  • नदी व अन्य जलस्त्रोतो का गलत तरीके से उपयोग
  • बिना सोंचे चीजों का उपयोग और गंदगी फैलाना

अर्थात् जब मानव का दिमाग पूर्णत: विकसित नही हुआ था, तब से प्रदुषण भारत मे चला आ रहा है| परन्तु बदले समय के साथ जैसे-जैसे मनुष्य के दिमाग का विकास हुआ, वैसे-वैसे वस्तुओं का उपयोग बदलता चला गया| विलासिता का जीवन जीने के लिये, मनुष्य ने प्राक्रतिक वस्तुओं का बहुत ही शीघ्रता से हनन करना प्रारंभ किया| जैसे-

  • कल-कारखानों के उपयोग के लिए लकड़ियों का ऐसा प्रयोग करना, जिसके चलते पूरे-पूरे वनों और जंगलो को तक नष्ट कर दिया|
  • प्राक्रतिक वस्तुए जैसे- कोयला, खनिज पदार्थ , तेल की खदानों का बिना सोंचे समझे शीघ्रता से दुरुपयोग करना|जिसके की निर्माण में सालो लग जाते है|
  • नदियों, तालाबो अब तो सागर के जल को भी बहुत दूषित कर दिया है|

यह तो सिर्फ वह तथ्य थे, जिन्हें हम बचपन से पढ़ते-सुनते हुए आये है| परन्तु बदलाव आज तक नही हुए, जिसके चलते कई लोगो की मृत्यु और कई लाइलाज रोग के शिकार हुये|

प्रदुषण के प्रकार (Pradushan / Pollution ke prakar)

बहुत ही पुराना और प्रचलित सा जवाब जिसे स्कूल के समय से पढ़ते आये है| जल, थल व वायु प्रदुषण | परन्तु बदलते समय के साथ इन ने भी अपना रूप बदल लिया है | इसके साथ प्रदुषण के प्रकारों में भी वृद्धि हुई है|

  • जल प्रदुषण (Jal or water Pradushan )
  • थल प्रदुषण
  • वायु प्रदुषण
  • ध्वनि प्रदुषण

जल प्रदुषण – बहुत ही प्रचलित लाइन है- “जल ही जीवन है”| पर इस जल का सदुपयोग आज तक किसी ने किया है, यह बहुत बड़ा सवाल है| हम आगे जल प्रदुषण के प्रमुख कारण और समाधान देखेंगे-

जल प्रदुषण के प्रमुख कारण (Jal Pradushan ke Karan)

  1. गाँव , कस्बो का नगरो व महा-नगरो में रुपान्तरण
  2. कारखानों के द्वारा
  3. अनुचित रूप से कृषि कर अपशिष्ट प्रवाह करना
  4. धार्मिक और सामाजिक रूप से दुरुपयोग
  • गाँव , कस्बो का नगरो व महा-नगरो में रुपान्तरण

शहरीकरण के विकास के चलते गांवो,कस्बो को नगरो व महा-नगरो मे शामिल करने की इस दौड़ मे जल के सबंध में और उसके सदुपयोग को ही व्यक्ति भूल गया है| शहरी इलाकों मे पानी का 80 प्रतिशत दुरुपयोग हो कर अपशिष्ट नदी, नालियों और तालाबों और कुओ में मिल रहा है, जो कि कभी साफ़ नही किये जाते और पुनः उपयोग मे लाये जाते है, और बीमारी का कारण बनते है| इसी के साथ जलीय जीव-जन्तु का भी खात्मा होता है|

आज के समय में गंगा ,नर्मदा, यमुना व और भी छोटी-छोटी नदी इसका सबसे बड़ा उदहारण है|

आधुनिकरण के इस दौर मे कारखानों का तीव्रता से विकास हो रहा है| एक निजी घरेलू लघु उद्योग से बड़े से बड़े कारखानों/फैक्ट्री/इण्डस्ट्रीज अपने कूड़े-कचरे , अपशिष्ट पदार्थो का प्रवाह जल मे कर उसे दूषित कर रहे है|

इसी कूड़े-कचरे को रिसाइकिल कर ,उपयोग मे लाया जा सकता है|

  • अनुचित रूप से कृषि कर अपशिष्ट प्रवाह करना

भारत एक कृषि प्रधान देश है| जिस कृषि के लिए बहुत बड़ी मात्रा में जल की आवश्यकता होती है| पर उससे भी अधिक आवश्यक बात यह है कि, उस जल का सही और उचित उपयोग किया जाये| अधिक बारिश होने पर जल का संग्रह इस तरह से करे कि, यदि भविष्य में सूखे की स्थति उत्पन्न भी हो तो, उस जल का सही और सदुपयोग हो सके|

  • धार्मिक और सामाजिक रूप से दुरुपयोग

भारत मे आज भी प्राचीन रीति-रिवाजों का बहुत महत्व है| जिनमे आज भी परिवर्तन नही हुए है| शव का अंतिम संस्कार, तर्पण, स्नान, अनुष्ठान आदि के चलते नदियों में प्रदुषण बड़ते जा रहा है| इसका सबसे बड़ा उदहारण कुम्भ स्नान है|

थल प्रदुषण – जिस धरती पर मनुष्य रहता है, उसका महत्व नही समझता| कही भी, कैसी भी गंदगी करना जैसे- कही भी कचरा कर देना, थूकना, पेड़ो की कटाई करना, आधुनिक साधनों का अधिक से अधिक उपयोग करना | बिना किसी योजना के कार्य करना, जिससे प्रदुषण बढ़ता है|

थल प्रदुषण के प्रमुख कारण (Thal Pradushan ke Karan)

  1. वनों की कटाई और मिट्टी का कटाव
  2. प्लास्टिक के पदार्थों का उपयोग
  3. खनीज पदार्थो का अत्यधिक उपयोग
  4. बिजली का अधिक मात्रा मे उपयोग

वायु प्रदुषण – मनुष्य जीवन जीने के लिए ऑक्सीजन की आवश्यकता होती है| ठीक उसी तरह जो ऑक्सीजन का माध्यम है, वायु| इसी वायु को मनुष्य ने आधुनिकीकरण के चलते बहुत दूषित कर दिया है| जिसके चलते वायु प्रदुषण इतना बढ़ गया कि वो ही वायु सास की खतरनाक बीमारी में बदल गई है|

वायु प्रदुषण के मुख्य कारण (Vayu Pradushan ke Karan)

  1. वाहनों का तेजी से उपयोग
  2. रोजमर्रा की जिंदगी की होने वाले प्रदुषण
  3. कारखानों के धुए से प्रदुषण

ध्वनि प्रदुषण – सामान्य जीवन में जीने के लिए, बोलना व सुनना बहुत ही आवशयक है | परन्तु सामान्य आवाज से ऐसी आवाज या तरंगे जिसे सुनना मुश्किल हो जाये ध्वनि प्रदुषण कहलायेगा|

ध्वनि प्रदुषण के मुख्य कारण (Dhwani Pradushan ke Karan)

  1. स्पीकर के उपयोग से
  2. आधुनिक साधनों के उपयोग से
  3. परिवहन के साधनों के उपयोग से

यह चार मुख्य और बड़े प्रदुषण है, इसके अलावा अन्य प्रदुषण-

  • रासायनिक प्रदुषण
  • प्रकाश प्रदुषण

भारत देश मे प्रदुषण की स्थति

नंबरशहर
1दिल्ली, भारत का दिल और राजधानी जिसका प्रदुषण मे पहला स्थान आता है| जिसका मुख्य कारण आबादी माना जाता है|
2पटना,बिहार की राजधानी जोकि, प्रदुषण के मामले में देश में दुसरे नंबर पर आती है| जहा प्रदुषण का मुख्य कारण जनसंख्याव्रद्धि , भुखमरी , अनपढ़ता है|
3ग्वालियर, मध्यप्रदेश की एक बड़ा नगर जो भारत मे प्रदुषण के मामले मे तीसरे स्थान पर आता है| प्रदुषण के चलते एक पर्यटक एतिहासिक धरोहर दूषित हो रही है|
4रायपुर,छतीसगढ़ की राजधानी कहा जाने वाला वह शहर जिसका प्रदुषण मे चौथा स्थान आता है| यहा प्रदुषण का सबसे बड़ा कारण बिजली के कारखाने, कोयले का उपयोग है|
5अहमदाबाद, गुजरात का वह शहर जहा कपड़ो के कारखाने है| जिसके चलते हो रहे प्रदुषण के कारण ,इसका भारत के पाचवे नंबर पर स्थान है|
6फिरोजाबाद, उत्तर प्रदेश का वह शहर है, जो चूड़ी बनाने और कांच के कारखानों के लिए प्रसिद्ध है| जिसके कारण भारी मात्रा मे प्रदुषण फैल रहा है|
7अमृतसर, पंजाब का वह शहर जो की स्वर्ण मंदिर के कारण बहुत चर्चित है| जो की पर्यटक के स्थल के साथ खाने-पीने,यातायात के लिये भी प्रसिद्ध है| जिसके कारण यह प्रदुषण मे भारत में सातवे स्थान पर है|
8कानपूर, उत्तर प्रदेश का वह शहर जोकि ,जनसंख्या व्रद्धि के चलते बहुत प्रदूषित हो चूका है|
9आगरा, उत्तर प्रदेश का वह शहर जो ताजमहल के लिए विश्व में प्रसिद्ध है| लेकिन खनन और सुखी रेत के कारण बहुत प्रदूषित हो रहा है|
10लुधियाना, सर्वे के अनुसार भारत का दसवां प्रदूषित शहर है| जोकि बढ़ते आधुनिकीकरण व उद्योग धंधो के कारण ही दूषित हो रहा है|

प्रदूषण की समस्या और समाधान (Pollution pradushan ki samasya samadhan )

प्रदुषण अपने आप में इतनी बड़ी समस्या है जिसको, आसानी से खत्म तो नही किया जा सकता| परन्तु सोच को बदलते हुए ,छोटे-छोटे उपाय कर ,इस समस्या को जड़ से खत्म भी किया जा सकता है| और जिससे भारत को फिर से, स्वच्छ और सुरक्षित कर सकते है| जो स्वच्छ भारत का सपना हमारे वर्तमान प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने देखा है| इसे बचाने के महत्वपूर्ण बिन्दु-

  • आधुनिकीकरण मे हर एक तकनीक का इतना अधिक से अधिक उपयोग हो रहा है, जिसके चलते ग्लोबलवार्मिंग का खतरा बहुत बढ गया है| जैसे- मोबाइल, कंप्यूटर, आधुनिक मशीनों कम से कम करे| जिससे का उपयोग निकलने वाली तरंगो को रोक कर ग्लोबलवार्मिंग के खतरे को कम किया जा सकता है|
  • वाहनों का कम से कम उपयोग करना चाहिए| जिससे खनीज पदार्थो की खपत को रोका जा सके|
  • मशीनों का उपयोग कम कर , हाथ से बनी वस्तु का उपयोग अधिक करे|
  • सौर ऊर्जा से चलने वाले यंत्रो का उपयोग करे|
  • कृषि के लिए जैविक खाद का उपयोग करे|
  • बढ़ रहे प्लास्टिक के उपयोग को रोके और कचरे के रूप मे फेकें जाने वाले प्लास्टिक को रिसाइकिल कर उपयोग करे|
  • अधिक से अधिक पेड़-पोधो लगाये, जल का संग्रह कर उसका सदुपयोग करे|
  • देश से अंधविश्वास और अनपढ़ता को खत्म कर, नदियों मे मृत शरीर और अस्थियो का प्रवाह न करे|

 प्रदुषण के सम्बन्ध मे समितियां और कानून

प्रदुषण जैसे विशाल समस्या की गंभीरता को देखते हुए कई कानून बनाये गये | जैसे-

  • भारतीय संविधान के 42वे संशोधन के बाद Artical 48a के अनुसार- पर्यावण का संरक्षण तथा संवर्धन, वन्य व वन्यजीवों की रक्षा राज्य करेगा| इसके आलावा Artical 51a मे भी इसका उल्लेख किया गया है|
  • केंद्रीय प्रदुषण नियन्त्रण बोर्ड(Central Pollution Control Board) ,(CPCB) इस समिति का निर्माण ,1974 को किया गया| जिसका कार्य नदियों तालाबो में हो रही गंदगी, वायु प्रदुषण, थलप्रदुषण, ध्वनि, रासायनिक,रेडियोधर्मी प्रदुषण को रोकना और देश को साफ-स्वच्छ रखना है|
  • प्रदुषण निवारण नियन्त्रण अधिनियम,1974 मुख्य रूप से तथा इसके अलावा कई छोटे-छोटे अधिनियम बने| जैसे-
  • वायु प्रदुषण अधिनियम
  • जल प्रदुषण अधिनियम
  • ध्वनि प्रदुषण अधिनियम

Pollution Pradushan par Kavita Poem

प्रदूषण पर कविता  

न पिने का जल बचा
न बची शुद्ध हवा
धरा पर भी अनाज ना उपजे
सभी जगह हाहाकार मचे  
चारो तरफ हैं शोर ही शोर
न शुद्ध होती आज की भौर
प्रदुषण हैं हर कण कण में
बीमारी हैं हर जन जन में
नदी तालाब बन गये हैं कूड़ादान
विनाश का रास्ता हैं रसायन विज्ञान
सदाबहार से सजा जंगल विलुप्त हुआ
हर जगह लंबी-लंबी चिमनी का धुआँ
कैसे सजे ऐसे में सुन्दर जीवन
जहाँ हैं प्रदुषण हर कण कण

प्रदुषण के सम्बन्ध मे कई कानून बने और संशोधित होते चले आरहे है| जिसमे प्रदुषण रोकने के लिए सजा के भी प्रावधान व जुर्माना भी मौजूद है|

अन्य पढ़े:

Priyanka

प्रियंका दीपावली वेबसाइट की लेखिका है| जिनकी रूचि बैंकिंग व फाइनेंस के विषयों मे विशेष है| यह दीपावली साईट के लिए कई विषयों मे आर्टिकल लिखती है|

Latest posts by Priyanka (see all)

भारत में ही नहीं पूरी दुनिया में प्रदूषण एक बड़ा पर्यावरणीय मुद्दा है जिसके बारे में हर किसी को पता होना चाहिए. माता-पिता को प्रदुषण के प्रकार, कारण और रोकथाम के बारे में पता होना चाहिए ताकि वो अपने बच्चो को इसके बारे में बता सके. यहाँ निचे हमने प्रदुषण पर निबंध दिया है ( Essay On Pollution In Hindi ) जो आपके बच्चो के लिये सहायक साबित होंगा.

पर्यावरण प्रदुषण विषय पर निबंध / Essay On Pollution In Hindi

आओ दोस्तों कसम ये खाये, प्रदुषण को हम दूर भगाये…

प्रदूषण शब्द का अर्थ होता है चीजो को गन्दा करना. वर्तमान में हम खतरनाक रूप से पर्यावरण प्रदूषण की समस्या से घिरे हुए हैं. और यह समस्या भविष्य में हमारे लिये जानलेवा भी हो सकती है. इस भयंकर सामाजिक समस्या का मुख्य कारण हैं औद्योगीकरण वनों की कटाई और शहरीकरण प्राकृतिक संसाधन को गन्दा करने वाले उत्पाद जो की सामान्य जीवन की दैनिक जरूरतों के रूप इस्तेमाल की जाती है. रास्तो पर गाडियों का ज्यादा उपयोग होने से पेट्रोल और डीजल का भी ज्यादा से ज्यादा अपव्यय होगा और गाडियों से निकलने वाले धुए से वायु प्रदुषण होता है.

पर्यावरण प्रदुषण / Pollution में सभी हानिकारक प्रदूषक हमारे स्वास्थ पर विपरीत प्रभाव डालते है. प्रदुषण के बहोत से प्रकार होते है जिनमे मुख्य रूप से जल प्रदुषण, वायु प्रदुषण, भू प्रदुषण और ध्वनि प्रदुषण शामिल है. उद्योगों में बड़े पैमाने पर उत्पादन किया जाता है और इस प्रक्रिया में केमिकल, विषैले पदार्थ और गैस का उपयोग किया जाता है जो मानवी स्वास्थ के लिये हानिकारक होते है. इससे प्रकृति में विभिन्न प्रकार की समस्याये उत्पन्न होती है जैसे की ग्लोबल वार्मिंग / Global Warming, जल प्रदुषण, वायु प्रदुषण / Air Pollutionइत्यादि. पिछले एक दशक में प्राकृतिक प्रदूषक का स्तर बहोत बढ़ा है. सभी प्रकार के प्रदूषण बेशक पूरे पर्यावरण और इकोसिस्टम को प्रभावित कर रहे हैं मतलब जीवन की गुणवत्ता को प्रभावित कर रहे हैं. मनुष्य की मूर्ख आदतों से पृथ्वी पर स्वाभाविक रूप से सुंदर वातावरण दिन-ब-दिन बिगड़ता जा रहा है. प्रदूषण सबसे गंभीर मुद्दा बन गया है और हर किसी को अपने दैनिक जीवन में स्वास्थ्य सम्बंधि बीमारियों का सामना करना पड़ रहा है.

इस पुरे ब्रह्माण्ड में केवल पृथ्वी ही एक ऐसा ग्रह है जहा जिंदगी के सभी संसाधन उपलब्ध है. इस ग्रह ने हमें जिंदगी दी और हमने इस ग्रह को प्रदूषित किया. इस से तो बेहतर है की हम इस ग्रह को बदलने की कोशिश ही न करे. हम दशको से पृथ्वी को प्रदूषित कर रहे है. हम सभी इसी ग्रह पर रहते है इसीलिये हमारी यह जवाबदारी है की हम इसे स्वस्थ और प्रदुषणरहित रखे. लेकिन हम अपने दैनिक कामो को चलते इतने व्यस्त हो गये की हम हमारी जिम्मेदारियों को ही भूल गये. साफ़ पानी और शुद्ध हवा हमारी स्वस्थ जिंदगी के लिये बहोत जरुरी है. लेकिन आज के आधुनिक युग में इन दो में से एक भी संसाधन साफ़ और शुद्ध नही. अगर ऐसा ही चलता रहा तो आने वाले सालो में इस ग्रह पर कोई जिंदगी नही रहेगी.

पृथ्वी पर सभी प्राकृतिक गैसो का संतुलन बने रहना बहोत जरुरी है. और ये संतुलन पदों से ही बना रहता है लेकिन हम अपने स्वार्थ के लिये पेड़ो को काट रहे है. जरा सोचिये की यदि इस ग्रह पर पेड़ ही न रहे तो क्या होगा, पेड़ हमारे द्वारा छोड़ी गयी गैस कार्बोन डाइऑक्साइड को ग्रहण करते है और ओक्सिज़न को छोड़ते है. यदि पेड़ इस दुनिया में नही होंगे तो वातावरण में कार्बोन डाइऑक्साइड का प्रमाण बढ़ जायेगा, और इससे ग्लोबल वार्मिंग का खतरा भी बढ़ जायेगा. प्राकृतिक संसाधनों के साथ छेड़-छाड़ करने से प्राकृतिक आपदाये भी आ सकती है. आज के आधुनिक युग में हमने औद्योगिक विकास तो कर ही लिया है लेकिन प्राकृतिक विकास हम नही कर पाये. हम औद्योगिक विकास करने के चक्कर में हमारी प्रकृति को ही भूल गये. और इसी वजह से आज दुनिया में अलग-अलग तरह की बीमारिया उत्पन्न हो रही है. औद्योगीकरण की वजह से जीवन रक्षा प्रणाली तेजी से जीवन विनाशी प्रणाली में परिवर्तित हो रही है.

प्रदूषण के दुष्प्रभावों के बारे में विचार करें तो ये बड़े गंभीर नजर आते हैं. प्रदूषित वायु में साँस लेने से फेफड़ों और श्वास-संबंधी अनेक रोग उत्पन्न होते हैं. प्रदूषित जल पीने से पेट संबंधी रोग फैलते हैं. गंदा जल, जल में रहने वाले जीवों के लिये भी बहुत हानिकारक होता है. ध्वनि प्रदूषण मानसिक तनाव उत्पन्न करता है. इससे बहरापन, चिंता, अशांति जैसी समस्याओं से गुजरना पड़ता है.

आधुनिक वैज्ञानिक युग में प्रदूषण को पूरी तरह समाप्त करना टेढ़ी खीर हो गई है. अनेक प्रकार के सरकारी और गैर-सरकारी प्रयास अब तक नाकाम सिद्ध हुए हैं. हरेक को ये सोचना चाहिये कि वे आस-पास कूड़े का ढ़ेर व गंदगी इकट्ठा न होने दें. जलाशयों में प्रदूषित जल का शुद्धिकरण होना चाहिये. कोयला तथा पेट्रोलियम पदार्थों का प्रयोग घटाकर सौर-ऊर्जा, सी.एन.जी., पवन-ऊर्जा, बायो गैस, एल.पी.जी., जल-विद्युत जैसे वैकल्पिक ऊर्जा स्त्रोतों का अधिकाधिक उपयोग करना चाहिये. इन सभी उपायों को अपनाने से वायु प्रदूषण और जल प्रदूषण को घटाने में काफी मदद मिलेगी.

ध्वनि प्रदूषण को कम करने के लिये कुछ ठोस एवं सकारात्मक कदम उठाने की आवश्यकता है. रेडियो, टीवी, ध्वनि विस्तारक यंत्रों आदि को कम आवाज में बजाना चाहिये. लाउडस्पीकरों के आम उपयोग को प्रतिबंधित कर देना चाहिये. वाहनों में हल्के आवाज करने वाले ध्वनि-संकेतकों का प्रयोग करना चाहिये. घरेलू उपकरणों को इस तरह प्रयोग में लाना चाहिये जिससे कम से कम ध्वनि उत्पन्न हो.

निष्कर्ष रूप में कहा जा सकता है कि प्रदूषण को कम करने का एकमात्र उपाय सामाजिक जागरूकता है. प्रचार माध्यमों के द्वारा इस संबंध में लोगों तक संदेश पहुँचाने की आवश्यकता है. सामुहिक प्रयास से ही प्रदूषण की विश्वव्यापी समस्या को नियंत्रित किया जा सकता है. इसे गंभीरता से निपटने की जरूरत है अन्यथा हमारी आने वाली पीढ़ी बहोत ज्यादा भुगतेगी.

आज हम अच्छी चीजो में पैसे खर्च करने की बजाये पर्यावरण को प्रदूषित करने वाली चीजो में पैसे खर्च करने लगे है. प्रदुषण से होने वाली बीमारियों से बचने के लिये हमें प्रदुषण रहित पानी पीना चाहिये, स्वस्थ भोजन करना चाहिये, सुबह की ताज़ी हवा लेनी चाहिये और कभी भी ध्वनि प्रदुषण नही करना चाहिये. हम में से आजकल ज्यादातर लोग फल, हरी सब्जिया खरीदने में पैसे खर्च करने की बजाये दवाइया लेने में पैसे खर्च करने लगे है. हमेशा याद रखे, जबतक हम स्वयं प्रदुषण की रोकथाम के लिये कोई कदम नही उठाते तबतक हम इस समस्या को दूर नही कर सकते.

जरुर पढ़े :- Slogans on pollution – प्रदूषण को रोको

पर्यावरण पर नारे :- Slogan on environment in Hindi

More Essay Collection :- Essay In Hindi

Note :- आपके पास Paryavaran Pradushan या Pollution Essay In Hindi मैं और Information हैं, या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट और ईमेल मैं लिखे हम इस अपडेट करते रहेंगे. धन्यवाद….
नोट :- अगर आपको Essay On Pollution In Hindi Language अच्छा लगे तो जरुर हमें facebook पर share कीजिये.
E-MAIL Subscription करे और पायें More Essay, Paragraph, Nibandh In Hindi. For Any Class Students, Also More New Article… आपके ईमेल पर.

Gyani Pandit

GyaniPandit.com Best Hindi Website For Motivational And Educational Article... Here You Can Find Hindi Quotes, Suvichar, Biography, History, Inspiring Entrepreneurs Stories, Hindi Speech, Personality Development Article And More Useful Content In Hindi.

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *